Poem: Tum kaun the

तुम कौन थे

जो आये थे मेरी जीवन में
एक झोंका हवा का बन के
कई रूप में
कई रँग में
कभी एक मित्र बन के
कभी एक दार्शनिक बन के
वो सब कुछ बन के
जो मेरे अधूरेपन को
भर देता था
कुछ सुन्दर पलों से

तुम कौन थे

याद है मुझे तुम्हारा चेहरा
जो चमकता था एक समान
अँधेरे में हो या रौशनी में
उस रौशनी में मैं भी
कुछ पल को
अपने अँधेरे भूल जाती थी
वो हाथ जब मेरे काँधे पर
एक विशवास का स्तंभ बन कर
एक प्रेम भरी थपथपाहट के कंपन से
मेरे दिल में धड़कन संचारित कर देता था

तुम कौन थे

और आज मैं बैठी हूँ
तुम्हारे सामने
जब तुम चले जाते हो
जहाँ से तुम मुझे देखोगे
और मैं भी तुम्हें
भौतिक रूप में ना सही
एक आत्मिक खिड़की से
उन कदमों के चिन्हों को
जिन की परछाईयाँ मुझे
प्रेरणा देंगी क्षितिज के उस ओर तक

तुम कौन थे

This poem is dedicated to Prema Attai, aunt of Yamini Kunder