Poem: ऊर्जा और परिभाषा

Rising Sun


देखा है कभी

सूरज को

उगते हुए

और डूबते हुए

क्या फर्क होता है

थोड़ा रौशनी का

और बहुत कुछ

 

निकलता है सुबह सुबह

एक जोश के साथ

बहुत ऊर्जा लिए हुए

सुबह का संचार करते हुए

हर कण कण में

एक स्वर्णिम चादर

बिखेर तेता है

प्रकृति के

हर आयाम में

प्राण भर देता है

अंधेरों के भी अंधेरों में

पर ध्यान से देखो

उगते सूरज की

परिधि को

कहाँ सीमा है उस की

ज्ञात ही नहीं होता

एक प्रकाश की आंधी

अपरिभाषित सी

ऊर्जा का एक

विसरण करती है

 

पर दिन को अगर

निकलना है तो

ढलना भी है

नियम है

जीवन का

क्रम है

जीवन का

सूरज भी इसी क्रम से

निकलता है प्रतिदिन

क्षितिज के उस ओर पे

ढल जाने के लिए

पर ढलते वक़्त सूरज का

रंग ढंग ही कुछ और होता है

कुछ गाढ़ा सा

कुछ नारंगी सा

दिन भर की थकान को

अपने भारीपन में समेटे हुए

विसरण की सीमायें

कुछ अधिक परिभाषित होती हैं

ऊर्जा और परिभाषा के

पर्वतों के मध्य में बहता है जो

निरंतर और सतत

वही जीवन है

वही जीवन है