Poem dedicated to Delhi rape victim and many more

I dedicate this to Delhi rape victim and many more who suffer silently. वो सहमी हुई होगी वो टूटी हुई होगी जब एक दरिंदे ने अपने आवेश मैं एक नापाक कदम उस की ओर बढ़ाया होगा इंसानियत को उस समय जाने क्या क्या याद आया होगा क्या सदियों से रूढ़िवाद से लिपटे समाज को उस … [Read more…]

Jab Tak Hai Kaan

Naushad ke sangeet ki mastiyan OP Nayyar ki mast dhunein Shankar Jaikishan ki allhad sangeet SD da ke dil chhone wale geet Nahin bhooloonga main Jab tak hai kaan, Jab tak hai kaan Anu Malik ka shor Bappi Lahri ke disco geet Pritam ki churayi hui dhunein Nadeem-Shravan ka ho ho ho Nahin maaf karoonga … [Read more…]

दीवाली की रात

इस रात ये ज़िंदगी ठिठुरेगी सहम जाएगी इस रात दीवाली हम से ना मनाई जाएगी कुछ अरसे से रौशनी हम से नाराज़ रही कुछ अरसे से मध्यम ज़िंदगी की आवाज़ रही इस रात दिल की लौ सुबक सुबक के सो जाएगी इस रात दीवाली हम से ना मनाई जाएगी लाशों के साए उभरते हैं खून … [Read more…]

उड़ चलो उड़ चलो

उन्मुक्त आसमान मैं, भय रहित उड़ चलो बंधनों को तोड़ के, उड़ चलो उड़ चलो काल के ललाट पर, चिन्ह छोड़ दो प्रबल जोश की मशाल ले, उड़ चलो उड़ चलो राह मैं जो आएँगी, मुश्किलें विशाल सी तोड़ के हर ग्रहण, उड़ चलो उड़ चलो है प्रकाश अल्प यहाँ, है तिमिर अति प्रचुर ह्रदय … [Read more…]

Poem: Ek Shabd

कभी एक शब्द का मुझे हर घड़ी इंतेज़ार रहता है कभी एक शब्द के लिए मेरा दिल बेकरार रहता है कभी एक शब्द कैसे पल भर मैं सारे रिश्ते बिखेर देता है कभी एक शब्द हम को यादों के जंगल मैं घेर लेता है कभी एक शब्द दिल के दरिया मैं कोई आस घोल जाता … [Read more…]

Poem: Ek Ashq

Ek ashq aankhon se nikalta hai, Aur dil main utar jaata hai Waqt ki karwatein badalte hi, Har oor bikhar jaata hai Zindagi ki kadwahat, Aur safar ki gard ko Dhote dhote hi, Na jane kitna waqt guzar jaata hai Sambhalo chaahein jitna, ashqon ko palkon ke tale Jab sailab umadta hai, to had se … [Read more…]

एकाकी मन के विस्तृत पटल पे

एकाकी मन के विस्तृत पटल पे स्मृति की रेखाएं इंगित हैं कुछ इतनी सूक्ष्म कि प्रतीत भी नहीं होंती कुछ इतनी गहरी कि नींव को भी विधवंसित कर दें एकाकी मन के विस्तृत पटल पे… इन रेखाओं मैं छुपे हैं अनगिनत क्षण प्रसन्नता के उन्मुक्त उल्लास के गहन पीड़ा के टूटे हुए विश्वास के कुछ … [Read more…]

Short Play: Kabhi Haan Kabhi Naa

Sutradhar: Bahut dinon pahle ki baat hai. Kisi door desh main ek raja aur ek rani rahte the. Unki ek sundar si rajkumari thi. Mujhe pata that aapko ye kahani already maloom hai isliye aaj jo hum presnt kar rahe hain wo kahani hamari aur aapki zindagi ke bare main hai. Aur jis zindagi ki … [Read more…]

Poem: Ye saali zindagi

Anjaan raaste Ajnabi log Saya bhi kabhi kabhi Lagta nahin apna Gairon ke ghar main hota To tab bhi maan leta Ham ko to lagti hai Apne ghar main hi khali zindagi Ye saali zindagi Sooni rahon se Guzarte hain Kabhi kabhi Rahein ham se Milte hai surag Ghum ke har taraf Dojakh si lagti … [Read more…]